Life

Message for the day आज का संदेश

विपरीत परिस्थितियों में ही पता चलता है कि आप कितने बलवान और कितने बुद्धिमान हैं

Your Wit & Vigor are tested in adversity.

पावक जरत देखि हनुमंता।
भयउ परम लघु रुप तुरंता॥

निबुकि चढ़ेउ कपि कनक अटारीं।
भई सभीत निसाचर नारीं॥

हरि प्रेरित तेहि अवसर चले मरुत उनचास।
अट्टहास करि गर्जा कपि बढ़ि लाग अकास॥

देह बिसाल परम हरुआई।
मंदिर तें मंदिर चढ़ धाई॥

जरइ नगर भा लोग बिहाला।
झपट लपट बहु कोटि कराला॥

जारा नगरु निमिष एक माहीं।
एक बिभीषन कर गृह नाहीं॥

उलटि पलटि लंका सब जारी।
कूदि परा पुनि सिंधु मझारी।।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s